वक़्त-वक़्त की बात है ... #सिफ़र

कभी तन्हा, कभी महफ़िल
              वक़्त-वक़्त की बात है ...
कभी राहत, कभी मुश्किल
              वक़्त-वक़्त की बात है ...             
कभी दरिया, कभी साहिल
              वक़्त-वक़्त की बात है ...
आज अधूरा, कल मुकम्मल
              वक़्त-वक़्त की बात है ...

 ✍  शहाब ख़ान  ''सिफ़र''
Kabhi Tanha, Kabhi Mehfil
              Waqt-Waqt Ki Baat Hai...
Kabhi Rahat, Kabhi Mushkil
              Waqt-Waqt Ki Baat Hai...
Kabhi Dariya, Kabhi Sahil
              Waqt-Waqt Ki Baat Hai...
Aaj Adhura, Kal Mukammal
              Waqt-Waqt Ki Baat Hai...

✍ Shahab Khan 'Sifar' 

 

No comments